top of page

आस

आस


किस तरह सुबह होती है

शाम होती है

जिंदगी चलती नहीं अकेले

कुर्बान होती है

कैसे माने,कि तुम आओगे

हंस कर दिखाओगे

एक आस लगी रहती है

अपने पास बुलाओगे

यूँ भी दिल लगता नहीं

वक़्त गुजरता नहीं

ये मायूसी दूर जाती नहीं

दिल संभालता नहीं

अरमां कोईभी दीखता नहीं

आरजूएं लाख मगर

तेरी यादों से न हूँ परेशां

सहारा एक उन्हीं का है

दिन गुजरने का न है ख़याल

रातें भी बीतती हैं कहाँ

धूमिल चंद-तारों पे है नज़र

पास बुलाओगे क्या?



२००६


Recent Posts

See All

SATYAVAN-SAVITRI KATHA

At one time King of Madradesh (now known as Syalkot, Pakistan) had prayed to Savitri Devi with the offerings of Musturd seeds for a good ten months hoping that his Queen would concieve and deliver a s

MY POINT OF VIEW

The room now was very quiet. Golden light fell on the table top next to my chair. The other chair on the opposite side of the table was lying on its back on the floor. Except for the low hum of the ai

Comentários


bottom of page